कन्याकुमारी देवी मंदिर का रहस्य...

kanyakumari


           कन्याकुमारी प्वांइट को इंडिया का सबसे निचला हिस्सा माना जाता  है।
                                                                                                                                                             यहां समुद्र तट पर ही कुमारी देवी का मंदिर है। यहां मां पार्वती के कन्या रूप को पूजा जाता है। एक कुँवारी देवी जिन्होंने भगवान शिव से शादी करने के लिये स्वयं को सजा दि थी, के एक अवतार को समर्पित है। कन्याकुमारी दो शब्दों कन्या अर्थात कुँवारी और कुमारी अर्थात लड़की से मिलकर बना है। कथाओं के अनुसार भगवान शिव और देवी कन्याकुमारी की शादी नहीं हुई, इसलिये कन्याकुमारी ने कुँवारी रहने का निश्चय किया।
 
यह देश में एकमात्र ऐसी जगह है जहां मंदिर में प्रवेश करने के लिए पुरूषों को कमर से ऊपर के कपडे  उतारने होते है

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, इस स्थान पर देवी का विवाह संपन्न हो पाने के कारण बचे हुए दाल- चावल बाद में कंकड़-पत्थर बन गए। कहा जाता है इसलिए ही कन्याकुमारी के बीच या रेत में दाल और चावल के रंग-रूप वाले कंकड़ बहुत मिलते हैं। आश्चर्य भरा सवाल तो यह भी है कि ये कंकड़-पत्थर दाल या चावल के आकार जितने ही देखे जा सकते हैं।
इस मन्दिर को आठवीं शताब्दी में पाण्ड्य शासकों ने बनावाया था और बाद में विजयनगर, चोल और नायक राजाओं द्वारा इसका जीर्णोद्धार कराया गया। कन्याकुमारी मन्दिर में 18वीं सदी का पवित्र स्थान भी है जहाँ पर्यटक देवी के पद चिन्हों को देख सकते हैं
Kanyakumari Point is considered to be the lowest part of India.
                                                                                                                                                            Here is the temple of Kumari Devi on the beach itself. Here the girl form of Mother Parvati is worshiped. One devoted to an incarnation of a virgin goddess who punished herself for marrying Lord Shiva. Kanyakumari is composed of two words, namely, virgin and virgin girl. According to legends, Lord Shiva and Goddess Kanyakumari were not married, so Kanyakumari decided to remain a virgin.This is the only place in the country where men have to wear clothes above their waist to enter the temple.According to mythological beliefs, due to the depletion of the marriage of Goddess at this place, the remaining dal-rice became pebbles later. It is said that so much so that between the Kanyakumari or the sand, there are many pebbles of lentils and rice in the sand. The surprising question is that these pebbles can be seen as the size of pulses or rice.

This temple was built by the Pandya rulers in the eighth century and later it was restored by the Vijayanagara, Chola and Nayak kings. Kanyakumari Temple also has an 18th century holy place where tourists can see the posture of goddess

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

लेबल

Recent Posts