loading...

शुक्रवार, 23 दिसंबर 2016

भाग-२ पृथ्वीराज चौहान मोहम्मद गोरी को 17 वार हराने वाले और माफ करने वाले पृथ्वीराज के साथ आखिर मे क्या हुआ था .चार भाष चौबीस गज अंगुल हस्त प्रमाण, त ऊपर सुल्तान है अब मत चुके चौहान"............


तराईन का दूसरा युद्ध (1192)
पृथ्वीराज चौहान द्वारा राजकुमारी संयोगिता का हरण करके इस प्रकार कन्नौज से ले जाना राजा जयचंद को बुरी तरह कचोट रहा था। उसके हृदय में अपमान के तीखे तीर से चुभ रहे थे। वह किसी भी कीमत पर पृथ्वीराज का विध्वंस चाहता था। भले ही उसे कुछ भी करना पड़े। विश्वसनीय सूत्रों से उसे पता चला कि मोहम्मद ग़ौरी पृथ्वीराज से अपनी पराजय का बदला लेना चाहता है। बस फिर क्या था जयचंद को मानो अपने मन की मुराद मिल गयी। उसने गौरी की सहायता करके पृथ्वीराज को समाप्त करने का मन बनाया। जयचंद अकेले पृथ्वीराज से युद्ध करने का साहस नहीं कर सकता था। उसने सोचा इस तरह पृथ्वीराज भी समाप्त हो जायेगा और दिल्ली का राज्य उसको पुरस्कार स्वरूप दे दिया जायेगा। राजा जयचंद की आँखों पर प्रतिशोध और स्वार्थ का ऐसा पर्दा पड़ा की वह अपने देश और जाति का स्वाभिमान भी त्याग बैठा था। राजा जयचंद के देशद्रोह का परिणाम यह हुआ की जो मुहम्मद गौरी तराइन के युद्ध में अपनी हार को भुला नहीं पाया था, वह फिर पृथ्वीराज का मुक़ाबला करने के षड़यंत्र करने लगा। राजा जयचंद ने दूत भेजकर गौरी को सैन्य सहायता देने का आश्वासन दिया। देशद्रोही जयचंद की सहायता पा कर गौरी तुरंत पृथ्वीराज से बदला लेने के लिए तैयार हो गया। जब पृथ्वीराज को ये सूचना मिली की गौरी एक बार फिर युद्ध की तैयारियों में जुटा हुआ तो उन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा। मुहम्मद गौरीकी सेना से मुकाबल करने के लिए पृथ्वीराज के मित्र और राज कवि चंदबरदाई ने अनेक राजपूत राजाओ से सैन्य सहायता का अनुरोध किया परन्तु संयोगिता के हरण के कारण बहुत से राजपूत राजा पृथ्वीराज के विरोधी बन चुके थे वे कन्नौज नरेश के संकेत पर गौरी के पक्ष में युद्ध करने के लिए तैयार हो गए। 1192 ई० में एक बार फिर पृथ्वीराज और गौरी की सेना तराइन के क्षेत्र में युद्ध के लिए आमने सामने खड़ी थी। दोनों और से भीषण युद्ध शुरू हो गया। इस युद्ध में पृथ्वीराज की और से 3 लाख सैनिकों ने भाग लिया था जबकि गौरी के पास एक लाख बीस हजार सैनिक थे। गौरी की सेना की विशेष बात ये थी की उसके पास शक्तिशाली घुड़सवार दस्ता था। पृथ्वीराज ने बड़ी ही आक्रामकता से गौरी की सेना पर आकर्मण किया। उस समय भारतीय सेना में हाथी के द्वारा सैन्य प्रयोग किया जाता था। गौरी के घुड़सवारो ने आगे बढकर राजपूत सेना के हाथियों को घेर लिया और उनपर बाण वर्षा शुरू कर दी। घायल हाथी न तो आगे बढ़ पाए और न पीछे बल्कि उन्होंने घबरा कर अपनी ही सेना को रोंदना शुरु कर दिया। तराइन के द्वितीय युद्ध की सबसे बड़ी त्रासदी यह थी की देशद्रोही जयचंद के संकेत पर राजपूत सैनिक अपने राजपूत भाइयों को मार रहे थे। दूसरा पृथ्वीराज की सेना रात के समय आक्रमण नहीं करती थी (यही नियम महाभारत के युद्ध में भी था) लेकिन तुर्क सैनिक रात को भी आक्रमण करके मारकाट मचा रहे थे। परिणाम स्वरूप इस युद्ध में पृथ्वीराज की हार हुई और उसको तथा राज कवि चंदबरदाई को बंदी बना लिया गया। देशद्रोही जयचंद का इससे भी बुरा हाल हुआ, उसको मार कर कन्नौज पर अधिकार कर लिया गया। पृथ्वीराज की हार से गौरी का दिल्ली, कन्नौज, अजमेर, पंजाब और सम्पूर्ण भारतवर्ष पर अधिकार हो गया। भारत में इस्लामी राज्य स्थापित हो गया। अपने योग्य सेनापतिकुतुबुद्दीन ऐबक को भारत का गवर्नर बना कर गौरी, पृथ्वीराज और चंदबरदाई को युद्ध बंदी के रूप में अपने गृह राज्य गौर की ओर रवाना हो गया !

मक्का मदीना से जुड़ा अनसुना रहस्य 
 
पृथ्वीराज चौहान के अंतिम समयः-
जयचंद की गद्दारी के कारन सम्राट पृथ्वीराज चौहान की सेना गौरी से हार चुकी थी ।पृथ्वीराज चौहान को बंदी बनाकर काबुल ले जाया गया ।
पृथ्वीराज का राजकवि चन्द बरदाई पृथ्वीराज से मिलने के लिए काबुल पहुंचा। वहां पर कैद खाने में पृथ्वीराज की दयनीय
हालत देखकर चंद्रवरदाई के हृदय को गहरा आघात लगा और उसने गौरी से बदला लेने की योजना बनाई।
चंद्रवरदाई ने गौरी को बताया कि हमारे राजा एक प्रतापी सम्राट हैं और इन्हें शब्दभेदी बाण (आवाज की दिशा में लक्ष्य को भेदनाद्ध चलाने
में पारंगत हैं, यदि आप चाहें तो इनके शब्दभेदी बाण से लोहे के सात तवे बेधने का प्रदर्शन आप स्वयं भी देख सकते हैं। इस पर गौरी
तैयार हो गया और उसके राज्य में सभी प्रमुख ओहदेदारों को इस
कार्यक्रम को देखने हेतु आमंत्रित किया।
पृथ्वीराज और चंद्रवरदाई ने पहले ही इस पूरे कार्यक्रम की गुप्त मंत्रणा कर ली थी कि उन्हें क्या करना है। निश्चित तिथि को दरबार लगा
और गौरी एक ऊंचे स्थान पर अपने मंत्रियों के साथ बैठ गया। चंद्रवरदाई के निर्देशानुसार लोहे के सात बड़े-बड़े तवे निश्चित
दिशा और दूरी पर लगवाए गए। चूँकि पृथ्वीराज की आँखे निकाल दी गई थी और वे अंधे थे, अतः उनको कैद एवं बेड़ियों से
आजाद कर बैठने के निश्चित स्थान पर लाया गया और उनके हाथों में धनुष बाण थमाया गया। इसके बाद चंद्रवरदाई ने
पृथ्वीराज के वीर गाथाओं का गुणगान करते हुए बिरूदावली गाई तथा गौरी के बैठने के स्थान को इस प्रकार चिन्हित कर
पृथ्वीराज को अवगत करवाया:-
‘‘चार भाष, चैबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण।
ता ऊपर सुल्तान है, चूके मत चौहान।।’’
अर्थात् चार बांस, चैबीस गज और आठ अंगुल जितनी दूरी के ऊपर
सुल्तान बैठा है, इसलिए चौहान चूकना नहीं, अपने लक्ष्य को
हासिल करो।
इस संदेश से पृथ्वीराज को गौरी की वास्तविक स्थिति का आंकलन हो गया। तब चंद्रवरदाई ने गौरी से कहा कि पृथ्वीराज
आपके बंदी हैं, इसलिए आप इन्हें आदेश दें, तब ही यह आपकी आज्ञा प्राप्त कर अपने शब्द भेदी बाण का प्रदर्शन करेंगे। इस पर
ज्यों ही गौरी ने पृथ्वीराज को प्रदर्शन की आज्ञा का आदेश दिया, पृथ्वीराज को गौरी की दिशा मालूम हो गई और
उन्होंने तुरन्त बिना एक पल की भी देरी किये अपने एक ही बाण से गौरी को मार गिराया।
गौरी उपर्युक्त कथित ऊंचाई से नीचे गिरा और उसके प्राण पंखेरू उड़ गए। चारों और भगदड़ और हा-हाकार मच गया, इस बीच पृथ्वीराज और चंद्रवरदाई ने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार एक-दूसरे को कटार मार कर अपने प्राण त्याग दिये।
आज भी पृथ्वीराज चौहान और चंद्रवरदाई की समाधी काबुल में विद्यमान हैं।

पृथ्वीराज चौहान Part -1

अगर आपको मेरे बलोग अच्छे तो निचे मूझे  follow जरूर करें और नये विश्यो पर बलोग लिखने के लिए सुझाब दें धन्यवाद।
                                                   
                                                    मृत्यु से पहले ये 10 संकेत देता है भगवान

                                                                         
                                                                     DOWNLOAD
दुनिया की सबसे भूतिया और रहस्मय जगह
महाभारत के प्राचीन शहर |
 समंदर से जुड़े 10 अनसुलझे रहस्य।   
मक्का मदीना से जुड़ा अनसुना रहस्य 
15 रहस्यमयी ऐसे देश जो कभी थे भारत का हिस्सा 
मृत्यु से पहले ये 10 संकेत देता है भगवान
भारत का एक रहस्मयी टापू जहाँ नहीं चलता किसी का राज
इन न्यूज़ हेडलाइन्स को पढ़ने के बाद शायद आप अपनी हंसी न रो पाएं
क्या आपने किये कैलाश पर्वत पर भागवान शिव के दर्शन नहीं तो....
Kya Aap Janto Ho Maa Vaishno Devi Ki Ye Katha
दुनिया की सबसे भूतिया और रहस्मय जगह
पाकिस्तान में स्थित एक ऐसा मंदिर यहाँ मुस्लिम भी झुकाते है सर |
ध्यान न रखी जाएं ये 4 बातें तो व्यर्थ है आपका जप
महाभारत के प्राचीन शहर
क्या आप जानते हैं हनुमान चालीसा की इस पंक्ति का रहस्य
How To Make Avtar Animation in Mobile 
यहाँ के लोग शव को आधा जला बापिस ले जाते है घर
How to Make Helicopter
VIDEO-योगी और ओवेसी की आमने सामने हुई तकरार राम मंदिर बनाने के लिए
 How to Download Youtube Videos Without Any Application
How to connect shareit pc to android
VIDEO-ऐसा दंगल पहले कभी नहीं देखा होगा | 
आखिर क्यों रो पड़े थे योगी संसद में वायरल विडियो |
How to download and use whatsapp windows 10
 शिवरात्री के दिन शिवलिंग पर नाग ने की पूजा देखने के लिए
How to check your gas subsidy online
कमजोर दिलवालों के लिए नहीं ये वीडियो कृप्या न देखें
5 ऐसी वेबसाइट जिनके बारे में आपने पहले सुना नहीं होगा
Movie Of Maharana Partap Battle Of Haldighati
हँसते हँसते पागल हो जाओगे इन पिक्चर्स को देखकर
एक माँ ढूंढ रही थी बेटी के बैग में सामान तभी मिला वो
         एक बार यह विडियो जरूर देखना !
दुनिया की सबसे भूतिया और रहस्मय जगह
Gost Live cctv - कमजोर दिल वाले ये वीडियो ना देखें
इस ट्राइब में पीते हैं अपने परिजनों की हडियों का सूप
Top 10 Most Killer Women in History
Seo services - What is SEO & seo company | top seo companies |



loading...
loading...

Popular Posts

लेबल

Recent

SPONSER

BEST DEAL

loading...

Support